क्या मनुष्य को पुनर्विवाह करना चाहिए
Last Updated : 2017-09-13 2:12:13 PM

शादी हर व्यक्ति की जिंदगी का सबसे खास और जिंदगी को एक अलग मोड़ देने वाला लम्हा होता है ,जो व्यक्ति की जिंदगी को बदल देता है | शादी के बाद शादीशुदा जोड़े के बीच में बहुत से उतार चढ़ाव होते रहते हैं, इन्हीं उतार-चढ़ाव की वजह से कुछ लोग परेशान होकर दूसरी शादी के बारे में सोचते हैं | व्यक्ति अपनी पहली शादी में अच्छे साथी के न होने की वहज से दूसरी शादी की सोचते है ताकि उनको दूसरा साथी अच्छा मिले | कुछ लोग अपने बच्चे की परवरिश को लेकर काफी परेशान रहते है इसी वजह से लोग दूसरी शादी करने की सोच लेते है | कुछ लोगो की दूसरी शादी का कारण यह है:- लड़की की कमाई को देखकर भी दूसरी शादी का फैसला करते है |

लोगो को दूसरी शादी करते समय बहुत सावधान रहना चाहिए, साथ ही साथ आपको कुछ बातो का ध्यान रखना चाहिए ,जैसे की आपकी पहली शादी किस वजह से टूटी थी | आपको कभी भी शादी को लेकर फायदे के बारे में ही नहीं सोचना चाहिए बल्कि कुछ नुकसान के बारे में भी सोचना चाहिए | शादी करते समय बहुत सारी बाते है जो हर व्यक्ति को इन सारी बातों का ध्यान रखना चाहिए | व्यक्ति को अपने दिल और दिमाग में बिठा लेना चाहिए कि किसी भी व्यक्ति को भी परफेक्ट जीवन साथी नहीं मिलता है | पति और पत्नी को एक दूसरे की कमियां और खूबियो के साथ ही जीवन के सफर में साथ चलना चहिये | क्या आप जानते हैं अधिकतर लोग दूसरी शादी अपनी मर्जी से नहीं बल्कि कुछ मजबूरी के कारण भी करते हैं | लेकिन जब भी आप शादी करने का फैसला करे तो सोच समझ कर ही करे ताकि शादी के बाद आपको या आपके परिवार को किसी भी दिक्कत का सामना न करना पड़े |

तलाक क्यो होते है :-

कोई नहीं चाहता है की उनके शादीशुदा जीवन में तालक की नौबत आये, लेकिन फिर भी किसी न किसी जीवन के में तलाक़ की नौबत आ ही जाती है | तलाक़ होने के कारण आपस में एक दूसरे के विचारो का न मिलना ,एक दूसरे की संस्कृति का न मिलना, जैसे कई और कारण है जिनकी वजह से तलाक़ होता है |

एक दूसरे के विचारों का न मिलना :- अधिकतर पति-पत्नी के विचारो का न मिलना, जिसकी वजह से एक दूसरे को समझ नहीं पाते है | अक्सर किसी भी बात को लेकर आपस में झगड़ना ओर भी बहुत सी छोटी-छोटी बातो की वजह से तलाक़ हो जाता है |

एक दूसरे के बीच परिवार वालों की दखलअंदाज़ी :- पति-पत्नी के रिश्ते के बीच किसी भी मामले को लेकर जरूरत से ज्यादा परिवार वालो कि दखल अंदाजी भी तलाक की वजह बन जाती है | आज के समय मे पति-पत्नी के बीच किसी भी मामले को लेकर परिवार वालो की दखलअंदाजी बहुत जोड़े को न पसंद है, फिर भी घर वाले दखलअंदाजी करते है,  तो पति-पत्नी आपस में तलाक़ ले लेते है |

मर्ज़ी के बिना शादी होना :- अगर कोई व्यक्ति किसी को पसंद या उससे प्यार करता हैं और उसकी शादी जबरदस्ती किसी ओर से करवा देते है तो ऐसे मे दोंनो के जीवन में उतार चढ़ाव होते रहते है, इस उतार चढ़ाव की वजह से दोनों ही एक-दूसरे से तलाक लेते हैं |

पति-पत्नी के स्टेटस में अंतर :- इन दोनों में से अगर कोई एक अमीर और दूसरा गरीब हो तो इससे  दोनों ही रिश्तो के बीच दरार आने की संभावना है, क्योंकि गरीबी और अमीरी की वजह से पति पत्नी के बीच अक्सर झगड़ा होता रहता है | आपस में झगडे के समय दोनों ही एक दूसरे की कमजोरी का एहसास दिलाते है और इसी वजह से भी तलाक हो जाते है |

एक-दूसरे पर विश्वास न होना :- पति पत्नी का एक दूसरे पर विश्वास ना होना इसका मतलब है की एक दूसरे पर भरोसा करने की बजाये एक दूसरे पर शक करना, इसके अलावा पति और ससुराल वालो की तरफ से लड़की को दहेज़ के लिए परेशान करना ये सब भी तलाक़ की वजह बन जाती है |

तलाक के बाद क्या होता है :-

पैसे की समस्या : कई घरों में पति पत्नी के बीच पैसे को लेकर काफी समस्या रहती है| जैसे कि वह अपने बच्चों की जरूरतों को पूरा नहीं कर पाते है या फिर अपने बच्चों की स्कूल फीस नहीं भर पाते | अपने घर की अन्य वस्तुएं पैसे की कमी से नहीं खरीद पाते हैं या फिर अपने घर की आर्थिक स्थिति की वजह से तलाक ले लेते हैं जिनका असर उन पर और उनके बच्चों पर पड़ता है | तलाक लेने के बाद पैसों की समस्या को लेकर और भी तकलीफ झेलनी पड़ती है |

क्या हो सकता है:- तलाक लेने के बाद जिस मकान में आप रहते हैं उसे छोड़ कर दूसरा मकान लेना पड़े | अगर बच्चे आपके साथ रहते हैं तो उनकी जरूरतों को पूरा करने के लिए साथ ही अपनी देखभाल करने में शायद आपको  मुश्किलें आए |

माता पिता की जिम्मेदारी :- जो तलाक शुदा माता-पिता अलग रहते हैं और अपने बच्चों की बारी बारी से परवरिश करते हैं उन्हें एक और समस्या का सामना करना पड़ता है |  उन्हें अपने पहले पति या पत्नी के साथ मिलकर कुछ नाजुक मामलों पर फैसला लेना पड़ता है जैसे कि बच्चों से कब और कितने देर के लिए  मिलना चाहिए, उनकी देखभाल कैसे की जाए और उन्हें अनुशासन कैसे दिया जाए |

क्या हो सकता है:- बच्चा किसके पास रहेगा, कितने समय तक रहेगा, जिस बारे में कोर्ट ने आपका फैसला किया है वह शायद आपके मन मुताबिक ना हो किसी दूसरे के मुताबिक हो | अगर आप दोनों ही अपने बच्चों की बारी-बारी से परवरिश करते हैं तो आपको यह ध्यान में रखना होगा कि मिलने का इंतजाम और आर्थिक मदद करने में शायद आपकी पहली पत्नी,पति आपकी बात मानने के लिए राजी है या राजी नही है |

तलाक का असर आप पर :-  तलाक के बाद एक इंसान कई तरह की भावनाओं से गुजरता है | अगर आपका तलाक हो चुका है तो आप भी जरूरी इस दौर से गुजरे होगे | आप ही एक तरफ अपने पहले साथी से अभी भी प्यार करते हैं क्योंकि बीते वक्त में वह आपके साथ अच्छे और बुरे समय की मददगार रहे है | वहीं दूसरी तरफ आपको उन  पर गुस्सा भी आता होगा क्योंकि जो अच्छे वक्त आपने उनके साथ बिताए थे वह आपको रह-रहकर याद आते होंगे आप सोचते होंगे कि वह मुझ से कहता था या कहती थी कि वह आपके बगैर नहीं रह सकते हैं |  साथ ही आपके मन में यह ख्याल आएगा कि क्या वह हमेशा मुझसे झूठ बोलते थे? आखिर यह सब क्यों हुआ ?

क्या हो सकता है:- आपके साथी ने जिस तरह आपके साथ बुरा व्यवहार किया है इस वजह से शायद आप अपने दिल से उनके लिए गुस्सा और नफरत नहीं निकाल पाएंगे | कभी-कभी अकेलापन शायद आपको काट खाने दौड़ता होगा | कुछ ऐसी बातें जो आपने अपनी जिंदगी में सिर्फ उनको ही बताया हो ऐसी बातें आपको हमेशा याद दिलाती होगी उनकी ओर उनके साथ बीते हुए कल की |

तलाक का असर बच्चों पर :- यह बात सच है कि अक्सर बच्चों को पता होता है कि उनके माता-पिता के बीच आपसी झगड़ा चल रहा है और इसका बच्चों के कोमल दिल और दिमाग पर बहुत बुरा असर होता है | मगर यह सोचना कि तलाक लेना बच्चों के लिए अच्छा रहेगा तो यह सोच बिल्कुल गलत है क्योंकि बच्चों को माता पिता दोनों का प्यार चाहिए होता है वह दोनों को एक साथ देखना पसंद करते हैं |

क्या हो सकता है:-  तलाक का आपके बच्चों पर बहुत ही बुरा असर हो सकता है खासकर तब होता है जब आप अपने पहले साथी के साथ अच्छा रिश्ता बनाने का बढ़ावा नहीं देते ( जैसे उन्हें बार-बार मना करना कि आपको उन से बात नहीं करनी, उन से मिलना जुलना नहीं आदि) है | बच्चो को खुलकर बोलने का मौका देना चाहिए , आपके साथ क्या हो रहा है उसके बारे में बताना चाहिए, ताकि बच्चो के मान में कोई भी गलत फैमी न रहे आप दोनों को लेकर |

Top